अपच (Indigestion) को कैसे ठीक करे ?

अपच (Indigestion) कारण और लक्षण :- अपच का मुख्य कारण अधिक खाना और समय असमय  खाना है। जब किसी मशीन का उसकी क्षमताओं से अधिक उपयोग किया जाता है, तो वह अपना काम ठीक से नहीं कर पाएगी। इसी तरह, पाचन तंत्र से अधिक काम लेने से वे ठीक से काम नहीं कर पाते हैं, …

Read more

अश्वगंधा(ashwagandha) के फायदे और नुकसान

अश्वगंधा(ashwagandha) अश्वगंधा वास्तव में एक जड़ी बूटी है। अश्वगंधा का इस्तेमाल कई बीमारियों में किया जाता है।अश्वगंधा का उपयोग सदियों से विश्वभर में उसके अनगिनत लाभ के कारण हो रहा है। वैज्ञानिक भी अश्वगंधा को गुणकारी औषधि मानते हैं। कहा जाता है कि अश्वगंधा व्यक्ति को स्वस्थ रखने में अहम योगदान निभा सकता है  इसके …

Read more

गिलोय(Tinospora cordifolia) के फायदे और नुकसान

गिलोय(Tinospora cordifolia) गिलोय एक बेल है। यह आमतौर पर खाली जगह, सड़कों के किनारे, जंगलों, पार्कों, बगीचों, पेड़ों और झाड़ियों और दीवारों पर उगता है। गिलोय का वैज्ञानिक नाम ‘टिनोस्पोरा कॉर्डिफोलिया’ है। ये बेल बहुत तेजी से बढ़ती है। गिलोय के पत्ते पान के पत्तों की तरह बड़े, चिकने और हरे रंग के होते हैं। …

Read more

ब्राह्मी(Waterhyssop) के 10 लाभ, उपयोग और नुकसान

दुनिया भर में कई प्रकार की जड़ी-बूटियां पाई जाती हैं जिनका उपयोग चिकित्सा क्षेत्र में किया जाता है। इनमें से किसी भी जड़ी-बूटी की जड़, फल, फूल का उपयोग औषधि बनाने में किया जाता है। इस लेख में हम इन्हीं जड़ी-बूटियों में से एक ब्राह्मी के बारे में बात कर रहे हैं। इस आयुर्वेदिक पौधे …

Read more

आंवला (Indian Gooseberry) के फायदे और उपयोग

आंवला(Indian Gooseberry) आंवला(Indian Gooseberry) को आयुर्वेद में अमृतफल  कहा गया है।वैदिक काल से ही आंवला (phyllanthus emblica) का प्रयोग औषधि के रूप में किया जाता है।आंवला विटामिन C के मामले में पहले स्थान पर आता है जो एक प्राकृतिक एंटीऑक्सीडेंट है और यह आपको फ्री रेडिकल और टॉक्सिन के हानिकारक प्रभावों के खिलाफ सुरक्षा देता …

Read more

हरीतकी(Terminalia chebula) क्या है? 

Haritaki-

हरीतकी को हरड़ भी कहते हैं। निघण्टुओं में सात प्रकार की हरीतकी का वर्णन मिलता है। स्वरूप के आधार पर इसकी सात जातियाँ हैं-1. विजया, 2. रोहिणी, 3. पूतना, 4. अमृता, 5. अभया, 6. जीवन्ती तथा 7. चेतकी लेकिन वर्तमान में यह तीन प्रकार की ही मिलती है। जिसको लोग अवस्था भेद से एक ही वृक्ष …

Read more